5.1 How to do Deep Content Research(Find Topic) | What to Write?

आज हम सीखने वाले हैं कि किसी और की वेबसाइट में डीप रिसर्च कैसे की जाती है या जिसको हम कह सकते हैं कि हम ओर किसी की वेबसाइट में ताका झांकी कैसे कर सकते हैं। जिससे हमें पता चलेगा कि उनकी वेबसाइट में क्या हो रहा है और हमें ऐसा क्या करना पड़ेगा जिससे हम उनको पीछे छोड़ कर उनसे आगे निकल जाएंगे।

किसी भी वेबसाइट या आर्टिकल का टाइटल बनाना आसान है, उसे फाइंड किया जा सकता है और टाइटल, टॉपिक, कीवर्ड, यह सब बन जाता है लेकिन जब आर्टिकल लिखने की बारी आती है तो हमें समझ नहीं आता कि हम आर्टिकल में क्या लिखें। जिससे हम रैंक कर सकते हैं तो आज हम यहां पर इसी चीज के बारे में सीखेंगे, कि आर्टिकल के अंदर क्या लिखना चाहिए, दूसरों की वेबसाइट में हम क्या देखेंगे की जिसको देखकर हम आर्टिकल लिखेंगे ताकि उनको पीछे छोड़ा जा सके।

what to write

  • 1. take a pen and paper and write your ideas on your own..(daily activity and soon..(keep notes – words and phrases about your subject)
  • 2. type your Idea on Google and start research
  • 3. online news portals
  • 4. forums (reddit, quora) groups and pages
  • 5. youtube and video sharing sites.
  • 6. offline research and librerrys.
  • 7. https://ezinearticles.com/  + wikipedia (public domain)

देखिए किसी भी आर्टिकल का कंटेंट लिखने के लिए सबसे सही चीज होती है कि आप सबसे पहले आर्टिकल का टॉपिक सेलेक्ट कर लीजिए। उसके बाद में उसका कंटेंट लिखने के लिए आप कॉपी पैन ले लीजिए और आपको जितनी नॉलेज है. वह सारी लिख दीजिए। क्योंकि जो नॉलेज आपको है. वही यूनिक होती है. हंड्रेड परसेंट यूनिक होती है. बाकी अगर आप इंटरनेट से नॉलेज लेकर लिखोगे। उसमें भी कोई प्रॉब्लम नहीं है, लेकिन आप खुद सोचिए कि अगर आपको उस टॉपिक के बारे में पता है , आप फिर भी इंटरनेट से कॉपी कर रहे हो, तो जो डाटा आपको इंटरनेट से मिला है, वह ऑलरेडी रैंक कर रहा है.  इसलिए मेरी फर्स्ट सजेशन यही है कि अगर आपको नॉलेज है तो आप अपनी लैंग्वेज में उस आर्टिकल को लिखने की कोशिश करिए।आप अपने आप को कम मत समझिये।  अगर आपको जितनी नॉलेज है उतनी आपने लिख दी और आपको कंटेंट कम लग रहा है  तो फिर आप इंटरनेट की हेल्प ले सकते हैं। लेकिन पहले कोशिश यही करें कि आप अपनी भाषा में जितना ज्यादा हो सके लिख दीजिए।

क्योकि गूगल यूनिक कंटेंट को बहुत पसंद करता है। ओर बहुत जल्दी रैंक करवाता है। ओर वैसे भी अब तो फीचर snipt  की ऑप्शन आ रखी है। उसमे अगर आपके आर्टिकल का कोई एक पेराग्राफ भी अच्छा हुआ तो गूगल उसे इंडेक्स कर लेता है ओर उसे 0 पोजीशन पर ले आता है। 

मेरा सुझाव यही है कि आप उन टॉपिक्स के ऊपर ना लिखो जो न्यूज़ पेपर में चल रहे हैं अगर आपकी न्यूज़ वेबसाइट है तो आप डेफिनेटली उन टॉपिक्स के ऊपर लिख सकते हो. लेकिन अगर आपकी नॉर्मल ब्लॉगिंग वेबसाइट है तो आप न्यूज़ टॉपिक्स ना लीजिए। क्योंकि उनकी वैलिडिटी बहुत कम होती है और वह आर्टिकल ज्यादा समय तक नहीं चल पाते और उन में कंपटीशन भी बहुत होता है. क्योंकि उन्हीं टॉपिक के ऊपर न्यूज वेबसाइट्स खुद आर्टिकल लिखती हैं और आपकी न्यूज़ वेबसाइट एक नॉर्मल वेबसाइट होती है तो  इसलिए आप उनका टॉपिक्स पर ना लिखे।  क्योंकि उनका कंपटीशन बहुत ज्यादा होता है।

इन कीवर्ड्स का सर्च वॉल्यूम ज्यादा होने के साथ-साथ कंपटीशन भी बहुत ज्यादा होता है और हमने लो कंपटीशन की वर्ड पर articles लिखने हैं।

अब ऐसा नहीं है कि आपने न्यूज़ टॉपिक्स को नहीं लिखना है आप लिख सकते हैं लेकिन आपको उनके लिए टाइटल इस तरह से बनाना होगा कि वह आने वाले टाइम तक भी अट्रैक्टिव लगता रहे।

अब हम एक वेबसाइट के बारे में बात करेंगे

How to Find Topic For Article Writing

https://ezinearticles.com/

find topics, topics find, topic find, topic, serach topic, choose topic, classified topics, best website for find topic for writing a blog, ejrael,

How to Find Topic For Article Writing

इस वेबसाइट में आपको कीवर्ड्स के ऊपर इतने ज्यादा आईडियाज मिलेंगे कि आप सोच नहीं सकते। इसमें कैटिगरीज दी हुई है आप अपनी कैटिगरीज को चुनिए।  जैसे आपकी sports कैटेगरी है. तब स्पोर्ट्स चुनिए। आपको वहां से सपोर्ट के अंदर किन-किन टॉपिक्स के ऊपर आर्टिकल लिख सकते हो, वह कीवर्ड मिलेंगे और जब आप उनकी कीवर्ड्स के ऊपर क्लिक करोगे तो उन कीवर्ड्स के ऊपर आर्टिकल्स भी मिलेंगे। जिनसे आपको कीवर्ड्स और आर्टिकल्स के बारे में भी आईडिया मिल जाएगा  और इस वेबसाइट में जितना भी डाटा है आप उस डाटा को यूज कर सकते हो क्योंकि यह डाटा पब्लिक डोमेन में आता है. तो इसमें आपको कोई कॉपीराइट भी नहीं आएगा। जितने भी classified websites होती हैं यह सारी पब्लिक डोमेन में आती हैं।

अगर आप किसी short keywords  के बारे में जानना चाहते हैं जैसे के what is smartphone, what is love तो इस तरह के कीवर्ड्स के बारे में नॉलेज लेने के लिए आप wikipedia.org पर जा सकते हैं वहां पर आपको अनलिमिटेड नॉलेज मिल जाएगी। जिसको आप रीड करके आर्टिकल में लिख सकते हैं.

How to find content for article Writing
How to find content for article Writing

इस वेबसाइट से आप इमेज कंटेंट कुछ भी यूज़ कर सकते हो. उसमें कोई प्रॉब्लम नहीं होगी। आप चाहो तो वहां से डायरेक्ट कॉपी करके अपने आर्टिकल में भी डाल सकते हो. उसमें भी कोई प्रॉब्लम नहीं होगी। पर आपका ब्लॉग रैंक नहीं करेगा। क्योंकि अगर आप सीधा कॉपी पेस्ट करोगे तो रैंक कैसे करेगा। आप उस कंटेंट को वहां से सीखिए और अपनी लैंग्वेज में अपने आर्टिकल में लिखिए। तब ही फायदा होगा। कॉपी पेस्ट नहीं करना है.

अब हम एक और वेबसाइट की बात करते हैं जिसका नाम है quora.com इस वेबसाइट में आपको अपने कीवर्ड से रिलेटेड बहुत सारे आइडियाज मिलेंगे।

https://www.quora.com/

How to find content for article Writing
How to find content for article Writing

आर्टिकल लिखने के लिए आप बुक्स खरीद सकते हो उन बुक्स को पढ़कर आप आर्टिकल लिख सकते हो।

जब आप एक कंटेंट लिखना स्टार्ट करते हो तो उसकी लेंथ कितनी होनी चाहिए। कीवर्ड डेंसिटी कितनी होनी चाहिए। हमें उसमें क्या-क्या एलिमेंट यूज़ करने चाहिए। उसमें कौन-कौन सी इमेज, वीडियो ,पीडीएफ, ब्रॉडकास्ट, यूज करने चाहिए। उसके लिए हमें अपने कंपीटीटर की वेबसाइट को चेक करना होगा कि उन्होंने अपने आर्टिकल में कौन-कौन से अलीमेंट्स लगाए हुए हैं. ताकि हम उनसे ज्यादा अच्छा काम कर सके जो उनकी वेबसाइट में जो कमी होगी हम उस कमी को दूर करके अपना आर्टिकल लिखेंगे। अगर उनमें कोई भी कमी नहीं होगी, तो हम उसकी वर्ड पर नहीं लिखेंगे या उस पोजीशन पर नहीं आ पाएंगे। इसलिए हमें उन कीवर्ड्स  को सर्च करना पड़ता है.

  1. हमारे कंपीटीटर आर्टिकल में जितने वर्ड्स हैं उसे ज्यादा वर्ड्स लिखने पड़ेंगे
  2. अगर हमारे कंपीटीटर आर्टिकल में हेडिंग नहीं है तो आप हेडिंग बनाकर आर्टिकल लिखिए
  3. हमारे आर्टिकल में मेन मेन कीवर्ड्स को बोर्ड और इटैलिक करिए
  4. हमने आर्टिकल में इंटरलिंकिंग करना है जिससे हमारी वेबसाइट के सभी आर्टिकल्स एक दूसरे के साथ जुड़ सकें।
  5. हमारे कंपीटीटर आर्टिकल में जितने बैकलिंक्स होंगे हमें उसे ज्यादा बैकलिंक्स बनाने पड़ेंगे
  6. हमें आर्टिकल में स्ट्रक्चर डाटा बनाना पड़ेगा जिससे हमारे आर्टिकल में फीचर्स snipt लग सके

पहले आप टाइटल लिखिए। उसके बाद में शेयरिंग बटन लगाइए। उसके बाद में पेजव्यूज शो होना चाहिए कि आज के दिन कितने व्यूज आए हैं. उसके बाद में आर्टिकल का टेबल होना चाहिए कि आपने इस आर्टिकल में किस-किस टॉपिक के बारे में लिखा है और उसमें # टैग लगाइए ताकि उस पर क्लिक करके यूजर डायरेक्टली उस पैराग्राफ पर पहुंच सके क्योंकि कई बार यूजर को पूरा आर्टिकल नहीं पढ़ना होता है उसको सिर्फ कुछ इंफॉर्मेशन चाहिए होती है तो टेबल की वजह से उसे पता चल जाता है कि उसको जो इंफॉर्मेशन चाहिए वह इस आर्टिकल में अवेलेबल है अगर आप टेबल नहीं बनाएंगे तो हो सकता है यूजर बिना पढ़े ही बैक चला जाए जबकि आपने उसके बारे में इंफॉर्मेशन दी हुई है.

जो आपका मेन टाइटल होगा उसी को ही थोड़ा चेंज करके आप फर्स्ट हेडिंग बना सकते हैं टेबल के बाद में आपने फर्स्ट हेडिंग बनाना है।

आपने अपने आर्टिकल में इमेजेस जरूर ऐड करनी है क्योंकि इमेजेस से यूजर को प्रैक्टिकली फील होता है, पढ़ने के साथ-साथ आर्टिकल को इमैजिनेशन भी कर सकता है और इमेज के अंदर alt टेक्स्ट जरुर डालना है और इमेज का साइज कम होना चाहिए ताकि आर्टिकल जल्दी खोलें या जल्दी लोड हो।

अगर हो सके तो आर्टिकल में वीडियो भी डालिए ताकि आप यूजर को अपने आर्टिकल के बारे में ज्यादा से ज्यादा समझा सको।

अपने आर्टिकल में पिक्चर इमेज जरूर लगाइए और उसमें भी ओल्ड टेक्स्ट दीजिए

जो वेबसाइट का होम पेज होता है उसमें आर्टिकल का टाइटल और उसकी फीचर इमेज ही दिखती है. इसलिए फीचर इमेज सिर्फ इतना नहीं होना चाहिए कि दिखने में सुंदर लगे. उस फीचर इमेज से आपके आर्टिकल का इंटेंट समझ आ जाना चाहिए। ताकि यूजर उस पर क्लिक करें और आर्टिकल को रीड करें।

आर्टिकल कंटेंट लिखने का मंत्र यह है कि आप आर्टिकल को जितना हो सके बढ़ा लिखिए और बड़ा लिखने के साथ-साथ ज्यादा से ज्यादा कीवर्ड्स को टारगेट करिए इससे आर्टिकल जल्दी इंडेक्स होता है और जल्दी रैंक भी कर जाता है.

अगर आप छोटा आर्टिकल लिखेंगे और आपका आर्टिकल रैंक कर गया तो कोई दूसरा बंदा आपसे ज्यादा words लिख कर आपको बीट कर सकता है इसलिए पहले ही बड़ा आर्टिकल लिखे ताकि normaly  कोई आपको बीट ना कर सके.

जब भी हम आर्टिकल लिखते हैं तो उसे कम से कम 1000 words  में जरूर लिखें। कम से कम 1000 words जरूर लिखें। अगर हजार words का आर्टिकल होगा तो सही होता है। आप ऐसी ना कोशिश करें कि आप सोचोगे मेरे को बहुत ही बड़ा आर्टिकल लिखना है। इस चक्कर में तो आप सिर्फ एक ही आर्टिकल लिख पाओगे। ज्यादा लिख ही नहीं पाओगे। इसलिए आप कोशिश करो कि अगर आपका आर्टिकल हजार words में हो चुका है तो आप उसको पब्लिश कर दीजिए। बाकी के जो पैरामीटर होते हैं  वह तो करने ही है. लेकिन अगर थाउजेंड वर्ड हो चुके हैं तो सही है. अगर कल को रैंक नहीं होता है तो वर्ड्स इनक्रीस कर देना, अदर वाइज 1000 words सही होते हैं।

 69 total views,  1 views today

Leave a Comment

Your email address will not be published.