4.1.3 How can a website be made responsive and mobile friendly – AMP

इस आर्टिकल में हम सीखेंगे के अपनी वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली कैसे बनाया जाता है और AMP प्लगइन को कैसे सेट किया जाता है. AMP की फुल फॉर्म होती है accelerated mobile pages.

एमपी किसी भी वेबसाइट की स्पीड को इनक्रीस करता है. लेकिन जब हम एमपी को इंस्टॉल कर देते हैं तो हमारे होमपेज के ऊपर जो एनीमेशंस होते हैं. बड़ी इमेजेस होती हैं. हाई क्वालिटी इमेजेस होती है. वह ऑटोमेटिकली रिड्यूस हो जाती हैं. इसलिए आपने यह डिसाइड करना है कि कौन से पेज या फिर कौन सी पोस्ट को अपने एमपी में ओपन करना है. एमपी गूगल के द्वारा रिकमेंड प्लगइन है. इससे आपकी वेबसाइट मोबाइल डिवाइस में बहुत फास्ट खुलती है. आज के टाइम में 70 से 80% लोग स्मार्ट फोन यूज़ करते हैं. इसलिए गूगल ने भी अनाउंस कर दिया है कि आपकी वेबसाइट में एमपी होना चाहिए। क्योंकि एमपी से वेबसाइट की स्पीड फास्ट हो जाती है. इसलिए आप होम पेज को एमपी में नहीं भी रखना चाहते हो तो कर सकते हो. लेकिन जो आप आर्टिकल लिखते हो उनको आप एमपी में जरूर इनेबल करो. ताकि हमारे आर्टिकल गूगल में रैंक कर सकें।

एमपी को इंस्टॉल करने के लिए आपने प्लगिंस में जाकर एमपी लिखना है और AMP for WP – Accelerated Mobile Pages प्लगइन को इंस्टॉल कर लेना है. By Ahmed Kaludi, Mohammed Kaludi

2nd

3rd

4th

5th

लोगों के लिए इमेज का साइज होना चाहिए (Recommended Size: 120 x 90)

7th

8th

जब आपको ऐडसेंस की अप्रूवल मिल जाएगी तब आपने इन दो ऑप्शन आओ को ऑन कर देना है रिस्पांसिबली ऑप्शन को भी ऑन कर देना है और ऐड यूनिट को भी ऑन कर देना है

स्पॉन्सरशिप लेबल अगर आप ऑन करते हो तो ऐड के ऊपर लेवल आ जाएगा कि यह ऐड कहां से आ रही है आप इस ऑप्शन को भी ऑन कर सकते हो

इस सेक्शन में आप गूगल ऐडसेंस और एनालिटिक्स के कोड जो आप deader सेक्शन में पेस्ट करते हो. यहां पर पेस्ट करने होते हैं जो के एमपी के लिए जरूरी होते हैं.

2

अगर आप एमपी स्पोर्ट ऑप्शन को इनेबल करते हो तो एलिमिनेटर और एमपी आपस में मिल जाते हैं. एमपी को एलिमिनेटर की सपोर्ट मिलती है. जिससे एमपी पेजेस पर लोड आता है और उतनी स्पीड नहीं दे पाता इसलिए ऑफिस ऑप्शन को बंद रखें। अगर आप अपनी वेबसाइट की स्पीड को फास्ट रखना चाहते हैं.

.

स्ट्रक्चर डाटा बहुत ही इंपॉर्टेंट टॉपिक है अगर आप अपनी वेबसाइट में स्ट्रक्चर डाटा का यूज करते हो तो गूगल आपके वेबसाइट को अच्छी तरह से समझ पाएगा के आपकी वेबसाइट में क्या है।

स्ट्रक्चर्ड डाटा की मदद से गूगल आपकी वेबसाइट का बहुत सारा डाटा सर्च पेज पर ही दिखा देता है जिसकी वजह से यूजर को वेबसाइट के अंदर जाने की जरूरत नहीं पड़ती है

.

.

.

.

onepush signal में आपको एक कोड मिलेगा उस कोड को आपने अपनी वेबसाइट के एड्रेस सेक्शन में पेस्ट कर देना है और सेटिंग में जाकर आपको एप आईडी मिल जाएगी उसको एमपी में पेस्ट कर देना है

.

.

 52 total views,  1 views today

Leave a Comment

Your email address will not be published.