1.2 Examples of Blogging And Case Studies

हमें हमारी वेबसाइट में सोशल मीडिया बटन लगाने चाहिए इससे क्या होगा जब कोई विजिटर हमारी वेबसाइट में आएगा तो वह सोशल मीडिया बटन पर क्लिक करके हमारे साथ सोशल मीडिया पर भी जुड़ सकता है.

हमें अपने blogs के नीचे डेट डालनी चाहिए और उन ब्लॉग को अपडेट करते रहना चाहिए ताकि viewers को यह लगे कि हम अपने ब्लॉग में लेटेस्ट अपडेट कर रहे हैं।

हमें अपनी वेबसाइट में उन ब्लॉग्स को अलग दिखाना चाहिए जो के पॉपुलर हैं और उनके ऊपर बहुत ज्यादा विजिटर आते हैं और उन ब्लॉग्स को लाइक किया जाता है।

या जिन ब्लॉग पर बहुत अच्छे कमेंट आए हुए हैं।  

इन सब फंक्शन के लिए हम टेंपलेट्स का भी यूज कर सकते हैं जिससे इस तरह की पोस्ट अपने आप अपडेट होती रहती हैं.

आप अपने फ्रंट पेज पर अलग-अलग कैटिगरीज को दिखाइए जिससे यूजर को पता चल सके कि आपने अपनी वेबसाइट में किस किस तरह के कोर्स बनाए हुए हैं ताकि वह उस कोर्स पर क्लिक कर सके.

आपने एक ही बुक तैयार करनी है उसकी बुक को आप सेल कर सकते हो और ब्लॉगिंग से रिलेटेड आप उन टूल्स के बारे में बता सकते हो, जो के आप कह सकते हो कि मैं ब्लॉगिंग में इन टूल्स का यूज करता हूं और वह टूल्स बेचने के लिए आप एफिलिएट लिंक का यूज कर सकते हो. जिससे आप पैसे कमा सकते हो.

वेबसाइट में सबसे नीचे हमने कैटागरीज दिखानी है, रिसेंट पोस्ट दिखानी है और रीसेंट रिव्यूज दिखाने हैं.

रिव्यू वाले सेक्शन में आप दिखा सकते हो कि जो प्रोडक्ट आप सेल कर रहे हो उन प्रोडक्ट्स के बारे में लोगों के क्या रिव्यू हैं.

सबसे नीचे कॉपीराइट वाले सेक्शन में आप लिखोगे कॉपीराइट के आगे अपने वेबसाइट का नाम और उससे आगे आपने किस year से ब्लॉगिंग शुरू करी और आज कौन सा ईयर चल रहा है और उसके बाद में पाइप(|) लगाकर प्राइवेसी पॉलिसी, डिस्क्लेमर, साइटमैप भी लिखना है और उससे नीचे आपने लिखना है कि आप कौन सी होस्टिंग यूज कर रहे हो.

टाइटल के नीचे लेखक का नाम ब्लॉग की कैटेगरी और पब्लिशिंग डेट मेंशन होनी चाहिए।

टाइटल के नीचे आपने यह लिखना है कि आपने इसको लास्ट अपडेट कैसे किया है और इसको शो करवाने के लिए आप किसी टेंपलेट का यूज कर सकते हैं।

टेंपलेट का फायदा यह रहता है कि आप जब भी इसी ब्लॉग में कुछ भी अपडेट करोगे तो उसमें अपडेट की डेट ऑटोमेटेकली चेंज हो जाएगी।

किसी भी ब्लॉग में टेबल क्रिएट करना चाहिए क्योंकि टेबल क्रिएट करना बहुत ही जरूरी है क्योंकि यह सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के हिसाब से भी बहुत ही इंपॉर्टेंट फेक्टर होता है।

अगर आप अपने ब्लॉग में पैराग्राफ्स को डिवाइड करके और अच्छे से ऑप्टिमाइज करके लिखते हैं तो वह भी इंडेक्स हो जाते हैं और उन पर फीचर्स नेफ्ट भी लग जाती है.

इन टेबल के अंदर जो आप कंटेंट डालेंगे उसमें आप हैशटैग का यूज करेंगे और नीचे जितना भी अपने कंटेंट बनाया है उसको नेविगेट करेंगे।

हमें हमारे पोस्ट में शेयरिंग बटन भी लगाने चाहिए जिससे हमारे ब्लॉग को शेयर किया जा सके.

लास्ट में एक पैराग्राफ लिखे जिसमें आपने author के बारे में कुछ बातें लिखनी है।

Read More.

 72 total views,  1 views today

Leave a Comment

Your email address will not be published.