7.4 alt tag optimization | Content writing SEO tips

कंटेंट writing में इमेज भी एक एक part होता है जिससे आपको बहुत सारे व्यूअर और विजिटर मिलते हैं.

गूगल ने एक पार्ट बनाया हुआ है जिसमें जब आप कोई कीवर्ड सर्च करते हो तो उसके साथ में इमेज की भी ऑप्शन है और वहां पर आपको बहुत सारी इमेजेस दिखाई देती हैं उनके वहां पर दिखाई देने के दो कारण होते हैं

पहला जिनकी वेबसाइट बहुत पॉपुलर होती है उनकी इमेजेस वहां पर दिखाई दे जाती है और दूसरा जिन्होंने अपनी वेबसाइट इमेजेस को अच्छे से Optimize किया होता है उन वेबसाइट्स की इमेजेस वहां पर दिखाई देती है।

alt tag optimization

ऊपर आपको कैटिगरीज की ऑप्शन भी दिख रही है जहां पर आपको अलग-अलग कैटिगरीज के नाम दिख रहे हैं. अगर आप अपनी वेबसाइट में इमेज को अच्छे से ऑप्टिमाइज करते हो. मतलब आप गूगल को बताते हो कि आपने जो इमेज अपनी आर्टिकल में डाली है. वह कौन सी कैटेगरी में आती है या वह क्या डिस्क्राइब कर रही है तो गूगल आपकी इमेज को इन कैटिगरीज में भी डाल देता है.

पहले क्या होता था कि गूगल को पता नहीं चलता था कि इमेज का क्या मतलब होता है. वह सिर्फ समझता था जब हम टेक्स्ट लिखते थे तो उस टेक्स्ट के जरिए ही इमेज को समझ पाता था. लेकिन अब नहीं टेक्नोलॉजी आने के बाद इसमें AI आ चुका है मतलब आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस। उसके जरिए गूगल आपकी इमेज को देखकर भी चेक कर सकता है कि आपकी इमेज के अंदर क्या है तो इसका अब हमें बहुत ध्यान से ऑप्टिमाइज करना पड़ता है क्योंकि आप जो लिखते हो वही इमेज के अंदर होना चाहिए। ऐसा नहीं होना चाहिए कि इमेज कुछ ओर डिस्क्राइब कर रही है और उसके अंदर आप लिख कुछ और रहे हो. अगर आप ऐसा करते हो तो उसका आपको कोई फायदा नहीं होने वाला है.

आर्टिकल में image Optimisation कैसे करते हैं?

आप गूगल में जितनी भी image देखते हो उन्होंने इमेज Optimisation बहुत अच्छे से किया होता है इसीलिए उनकी image गूगल में रैंक करती हैं जिनके ऊपर क्लिक करके विजिटर उनके आर्टिकल पर पहुंच जाता है।

Alt Tag: जब हम आर्टिकल में किसी कीवर्ड के ऊपर लिंक देते हैं तो उसे एंकर टेक्स्ट कहते हैं ठीक उसी तरह से इमेज में Alt Tag  होता है जिस पर क्लिक करके यूज़ अपने आर्टिकल पर पहुंच जाता है और Alt Tag एक तरह से anchor text ही होता है।

alt tag optimization

image attachment details कैसे fill करते हैं?

जब हम इमेज को डालते हैं तो मान लीजिए उस इमेज की जगह पर हमने कुछ लिखना हो. तो हम उस इमेज को डिस्क्राइब करने के लिए या उस इमेज की जगह पर क्या लिखेंगे। उस टेक्स्ट को ही अल्टरनेटिव टेक्स्ट कहते हैं. मतलब Alt Tag.

हम अल्टरनेटिव टेक्स्ट में जो भी लिखते हैं. अगर गूगल उसको रीड करें तो उसके दिमाग में एक इमेज बननी चाहिए। वही इमेज हमने अपने आर्टिकल में डालनी है.

टेक्स्ट के साथ ब्रैक्ट में आप इमेज को भी डिस्क्राइब कर सकते हैं कि आपकी इमेज PNG है JPEG है या इंफोग्राफिक्स है.

टाइटल में आप इमेज का शॉर्टकट नेम डाल सकते हो.

Caption भी एक तरह से Alt Text ही होता है लेकिन यह इमेज के नीचे दिखाई देता है.

जब के ओल्ड टेक्स्ट दिखाई नहीं देता है यह Backend में होता है गूगल BOTS  उसको रीड कर सकता है.

कैप्शन 1 तरह से इमेज को ही रिप्रेजेंट करता है।

डिस्क्रिप्शन में हमने इमेज को डिस्क्राइब करना है. यहां पर हम एक, दो या तीन लाइनें भी लिख सकते हैं. जिनमें हम कीवर्ड्स को टारगेट कर सकते हैं और यहां पर आप long-tail कीवर्ड भी यूज कर सकते हैं।

कंटेंट राइटिंग में इमेज को बहुत अच्छी तरह से ऑप्टिमिसे कीजिये.

 79 total views,  1 views today

Leave a Comment

Your email address will not be published.