8.6 Overview And Uses of Google Search Console Dashboard

submitted URL marked “noindex”

का मतलब होता है की जिन पर जिसको हम robot.txt में noindex करके रखते हैं. उनको google index नहीं करता है. इसलिए उन पर error आ जाता है. इसी को ही submitted URL marked “noindex” कहते हैं.

अगर आपको webmaster tool में error आ रही है तो उस URL को फिर से डाल कर दोबारा से इंडेक्स करवा सकते हो. इससे प्रॉब्लम निकल जाएगी और अगर आप sitemap दोबारा से सबमिट कर दोगे तो उससे भी प्रॉब्लम निकल जाती है.

REMOVAL ऑप्शन का मतलब है की अगर आप इस ऑप्शन में किसी यूआरएल को सबमिट कर देते हो तो गूगल उस url को इंडेक्स नहीं करेगा। और अगर किसी पेज पर 404 एरर आ रही है. तो उस पेज के यूआरएल को आप यहां पर सबमिट कर दीजिए। कुछ दिन में वह यूआरएल गूगल से हट जाएगा। इससे जो एरर आ रही होगी कवरेज नॉट फाउंड की वह भी ठीक हो जाएगी।

वेबसाइट speed check करने के लिए google की website

https://developers.google.com/speed/pagespeed/insights/?url=https%3A%2F%2Flegendsrepair.com%2F&tab=desktop&hl=en

Issue type is the status of the various measures:

LCP (largest contentful paint): How long it takes the page to render the largest visible element

FID (first input delay): How long it takes the page to start responding to user actions

CLS (cumulative layout shift): How much the page UI shifts during page loading.

core web vitals
click on open report
यहां से हमें यह पता चल जाएगा कि हमारी वेबसाइट में क्या issu है जैसे के LCP ISSU इसका मतलब होता है कि वेबसाइट खोलने में कितना टाइम लग रहा है और CLS ISSU का मतलब होता है कि लोडिंग ISSU करके कितने मोबाइल हमारी वेबसाइट को छोड़कर दूसरी वेबसाइट पर Shift कर जाते हैं. उसके बाद में back करके डेस्कटॉप वाली ऑप्शन में अगर अपनी वेबसाइट में issu है तो उसके बारे में देख सकते हैं.

LCP error को दूर करने के लिए आप AMP का उसे करिये। सलस error को दूर करने के लिए lite थीम का उसे करें।

mobile usability:

अगर इस option में error आ रही है तो आपको उसे ठीक करना पड़ेगा। जब तक यहां पर सभी points green नहीं होंगे तब तक गूगल आपके blogs को रैंक नहीं करवाएगा क्योंकि मोबाइल में usability सही नहीं है।

यह चेक करने के लिए के गूगल की नजर में कौन से पेज सही हैं तो इससे आपको यह भी पता चल जाएगा कि गूगल किस तरह के पेज को सही मानता है. उसके लिए आपने वैलेड ऑप्शन पर क्लिक करना है. उसके बाद में नीचे आपको वैलिडिटी ऑप्शन मिलेगी उसके ऊपर क्लिक करना है और वहां पर आपको वह सभी पेज के युवा रन मिल जाएंगे जो कि गूगल की नजर में वैलिड हैं तो उन पर जिसको आप ओपन करके देख सकते हैं कि गूगल ने इनको वैलिड माना है.

Mobile usability>> valid>> valid (mobile friendly pages)>> open in new tab

अगर आप प्रोडक्ट सेल करते हो तो आपको प्रोडक्ट की ऑप्शन भी मिलेगी और अगर आप अपनी वेबसाइट में ब्लॉग लिखते हो तो वहां पर प्रोडक्ट की ऑप्शन नहीं मिलेगी.

sitelink searchbox:

इसका मतलब यह होता है की हमारी वेबसाइट में जो search buttan है वह गूगल के सर्च results में भी आएगा।

सर्च कंसोल में आप जो भी रिजल्ट देखते हो वह एग्जैक्ट लाइव नहीं होता है. वह एक-दो दिन आगे पीछे का रिजल्ट होता है.

Legacy tools and reports

इस ऑप्शन में आप अगर अपनी वेबसाइट को किसी एक country को टारगेट करना चाहते हो कि आपकी वेबसाइट इस country में दिखे तो आप उन ऑप्शन को यहां पर सिलेक्ट कर सकते हो. फिर गूगल सर्च कंसोल आपकी वेबसाइट को उस कंट्री में ही दिखाएगा। बाकी कंट्री में नहीं दिखाएगा और अगर आप इस ऑप्शन को इग्नोर कर देते हो तो फिर पूरे वर्ल्ड में आपकी वेबसाइट दिखाई देगी। हर एक कंट्री में आपकी वेबसाइट दिखाई देगी।

Links

इस ऑप्शन में आप यह चेक कर सकते हो कि किन-किन वेबसाइट से मैं आपको बैकलिंक मिला है या ऑर्गेनिक बैकलिंक मिला है और यह भी चेक कर सकते हो कि किन-किन कीवर्ड्स के ऊपर आपको देखने को मिला है.

Top linked pages

में आपको उन pages के बारे में पता चल जाएगा जिन pages पर आपको सबसे ज्यादा बैकलिंक मिला है।

Top linking text (Link text in external pages that link to your property.)

मतलब तीन कीवर्ड्स पर कुछ वेबसाइट्स ने आपको anchor text लिंक दिया है. या फिर कौन-कौन से टेक्स्ट लिखकर आपकी वेबसाइट को लिंक दिया जा रहा है.

 63 total views,  1 views today

Leave a Comment

Your email address will not be published.